बजरंग पुनिया का जीवन परिचय || Bajarang puniya biography in hindi 2021

 

आज टोक्यो ओलंपिक 2021 में  भारत के स्टार पहलवान बजरंग पूनिया (Bajrang Punia) ने अपनी शुरुआत जीत के साथ करते हुए सेमीफाइनल में अपने लिए जगह पक्की कर चुके है। 65 किलोग्राम भार वर्ग में देश किर्गिस्तान के अरनाजर अकमातालिव को पीछे छोड़ दिया और इसके बाद क्‍वार्टर फाइनल में ईरान देश के मोर्तेजा चेका को भी हराकर सेमीफाइल में जगह बना ली है। अब पदक जीतने से बजरंग पूनिया बस एक कदम दूर हैं।

बजरंग पुनिया का जीवन परिचय || bajarang puniya biography in hindi 2021
बजरंग पुनिया का जीवन परिचय

 भारत की ओर से बजरंग पूनिया पदक के एक प्रबल दावेदार हैं। बजरंग पूनिया के सेमीफाइल में पहुंचने से पूरे देश की पूनिया से गोल्ड लाने उम्मीदें और ज्यादा मजबूत हो गई है।
लेकिन क्या आप जानते है सेमीफाइनल में रेसलिंग में अपनी जगह बनाने वाले बजरंग पूनिया कौन है? तो आज हम इस ब्लॉग पोस्ट में बजरंग पूनिया के जीवन परिचय के बारे में विस्तार से बताएंगे।

तो चलिए शुरू करते है।

बजरंग पूनिया का जीवन परिचय (Bajarang Punia biography in hindi)


बजरंग पुनिया के जन्म तथा परिवार के बारे में (bajarang puniya’s birthday and family in hindi)
भारत के पहलवान बजरंग पुनिया का जन्म भारत देश के हरियाणा राज्य के झज्जर जिले के खुदन गांव में सन् 1994 में 26 फरवरी को हुआ था। बजरंग पुनिया की माताजी का नाम ओम प्यारी तथा इनके पिताजी का नाम बलवान सिंह पुनिया है। आप की जानकारी के लिए बता दें कि बजरंग पुनिया के पिताजी भी एक पहलवान है। और बजरंग पुनिया का एक भाई भी है जिनका नाम हरेंद्र पुनिया है और वह भी पहलवानी ही करते हैं।

बजरंग पुनिया की जाति, धर्म और नागरिकता(Bajrang Punia’s Caste, Religion and Citizenship in hindi)
पहलवान बजरंग पुनिया हरियाणा के जाट समुदाय से ताल्लुक रखते हैं यानि बजरंग पुनिया की जाति जाट है और यह हिंदू धर्म को मानते है तथा बजरंग पुनिया भारतीय नागरिकता रखते हैं।

बजरंग पुनिया की शिक्षा (bajarang puniya’s Education in hindi)
पहलवान बजरंग पुनिया ने अपनी प्राथमिक शिक्षा अपने गांव(खुदन) के विद्यालय से ही पूरी की थी। बजरंग पुनिया को कुश्ती लड़ना पसंद था और उन्होंने सिर्फ 7 साल की उम्र से ही कुश्ती लड़ना शुरू कर दिया था। और  जिसमें उन्हें इनके पिताजी का काफी सहयोग भी मिला था। बजरंग पुनिया ने अपनी ग्रेजुएशन की शिक्षा महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी से पूरी की थी। इसके साथ ही बजरंग पुनिया ने इंडियन रेलवे में टिकट चेकिंग करने का काम भी किया है। पहलवान बजरंग पुनिया के कोच का नाम योगेश्वर दत्त है।

बजरंग पुनिया की उपलब्धियां(bajarang punia’s Achievements in hindi)
साल 2015 में कुश्ती पहलवान बजरंग पुनिया को भारत सरकार ने अर्जुन पुरुष्कार से सम्मानित किया था।
साल 2019 में बजरंग पुनिया को सेंट्रल गवर्नमेंट की ओर से पद्मश्री पुरस्कार से भी नवाजा गया था।
साल 2019 में 29 अगस्त को बजरंग पुनिया को राजीव गांधी खेल रत्न से भी सम्मानित किया गया था।
साल 2013 में बजरंग पुनिया को डेव स्चुल्ज़ मेमोरियल टूर्नामेंट(Dave Schultz memorial Tournament) मे सिल्वर पुरस्कार और साथ ही साल 2015 में डेव स्चुल्ज़ मेमोरियल टूर्नामेंट(Dave Schultz memorial Tournament) मे फिर से सिल्वर पुरस्कार भी प्राप्त हुआ था।
बजरंग पुनिया के करियर बारे मे (Bajrang Punia’s Career in hindi)
बजरंग पुनिया ने साल 2013 में एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में भाग लिया था। यह चैंपियनशिप भारत की राजधानी दिल्ली में हुई थी। इस चैंपियनशिप में बजरंग पुनिया सेमीफाइनल तक पहुंचने में सफल हुए थे, जिसमें उन्हें हार का भी सामना करना पड़ा था।
इसके बाद साल 2013 में ही हंगरी में हुए वर्ल्ड कुश्ती चैंपियनशिप बुद्धा पेस्ट को बजरंग पुनिया ने 60 किलोग्राम वर्ग की कैटेगरी में कांस्य पदक अपने नाम किया था। इसके बाद करियर को आगे बढ़ाते हुए साल 2014 स्कॉटलैंड में आयोजित राष्ट्रमंडल खेल, ग्लास्गो में हिस्सा लिया था,और वहां पर 61 किलोग्राम वर्ग की कैटेगरी में बजरंग पुनिया ने गोल्ड मेडल भी हासिल कर लिया था।

इसके बाद दक्षिण कोरिया में आयोजित हुए एशियाई खेल में बजरंग पुनिया ने फिर से एक बार गोल्ड मेडल को अपने नाम किया था, और वहीं साल 2017 में दिल्ली में आयोजित हुए एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में बजरंग पूनिया ने फिर से बार गोल्ड मेडल प्राप्त किया था। इसके बाद कदम आगे बढ़ाते हुए साल 2018 में राष्ट्रमंडल खेल में फिर से बजरंग पुनिया ने गोल्ड मेडल हासिल किया था। और इसी वर्ष 2021 में भी बजरंग पुनिया ने एक बार फिर से एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल प्राप्त किया है। इस प्रकार पहलवान बजरंग पूनिया ने अभी तक कुल मिलाकर 3 ब्रॉन्ज मेडल, 4 सिल्वर मेडल और 5 गोल्ड मेडल अलग-अलग गेम्स में हासिल किए हैं।

बजरंग पूनिया की पसंदीदा चीजे (Bajarang punia’s hobby in hindi)
बजरंग पुनिया को खेलों में बास्केटबॉल खेलना, फुटबॉल खेलना और रिवर राफ्टिंग करना बहोत अच्छा लगता है। बजरंग पुनिया का मनपसंद भोजन चूरमा है। और कप्तान चंद्रुप्त और योगेश्वर दत्त हमेशा से ही बजरंग पुनिया के पसंदीदा पहलवान रहे हैं।

और पढ़े.. 

बॉलीवुड से जुड़े रोचक तथ्य

नीता अंबानी से जुड़े रोचक तथ्य

Tags:- बजरंग पुनिया की जीवनकथा, बजरंग पुनिया के बारे में, बजरंग पुनिया की बायोग्राफी

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *